8 वर्ष की बच्‍ची के साथ हैवानियत, मामी ने गर्म चिमटे से गुप्तांग पर दागा…..

 

एक मामी ने अपनी ही गोद ली भांजी के साथ क्रूरता की हदें पार कर दी। मामी ने ना केवल 8 साल की बच्ची की बेरहमी से पिटाई की, बल्कि उसके प्राइवेट पार्ट को भी दाग दिया। गंभीर रूप से जख्मी बच्ची को देखकर लोगों ने पुलिस और चाइल्ड लाइन को सूचना दी। पुलिस ने मासूम को एमवाय अस्पताल में भर्ती कराया है

घटना शनिवार रात पाटनीपुरा शराब की दुकान के सामने की है। वहां लोगों ने बालिका को बदहवास हालत में देखा तो चाइल्ड लाइन टीम को सूचना दी। जिस पर इंदौर चाइल्ड लाइन से समन्वयक राहुल गोथाने, काउंसलर मंजू चौधरी, मोनिका वाघाये और नरेंद्र राजपूत मौके पर पहुंचे। टीम ने देखा कि बालिका बहुत डरी हुई थी। चाइल्ड लाइन टीम बालिका को लेकर एमआईजी थाने पहुंची और मामले की जानकारी देने के साथ उसे एमवाय अस्पताल जाकर एडमिट कराया।

बच्ची के चेहरे व गले पर चोटों के निशान है। डॉक्टरों ने उसका चेकअप किया तो पता चला कि उसके पूरे शरीर पर ही चोटों के कई निशान हैं। बालिका का प्राइवेट पार्ट भी काफी जख्मी होकर जला हुआ था।

पुलिस ने मामी को हिरासत में लिया
बालिका के बयान के बाद पुलिस ने आरोपी मामी को हिरासत में ले लिया। MIG थाना टीआई अजय वर्मा ने बताया कि अभी तक मामी की भूमिका सामने आई है कि वह बच्ची की बेरहमी से पिटाई करती थी। उसके पति की भूमिका की भी जांच की जा रही है। पीड़िता बालिका बार-बार घटना को याद कर सहम जाती है और रोने लगती है। टीम द्वारा उसकी काउंसलिंग की जा रही है।

मां की मौत हुई, पिता वाराणसी में रहते हैं….

मामले में बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष पल्लवी पोरवाल व सदस्य संगीता चौधरी भी अस्पताल पहुंचे और बालिका से पूछताछ की। उसने बताया कि उसकी मां की मौत हो चुकी है। पिता वाराणसी में रहते हैं। पिता द्वारा उसे इंदौर में रहने वाले साले रामप्रकाश जायसवाल को कुछ माह पहले गोद दिया था। रामप्रकाश खुद को मासूम की मां का मुंहबोला भाई बताता था। चूंकि रामप्रकाश-लक्ष्मी के बच्चे नहीं थे, इसलिए मासूम की मां के निधन के बाद रामप्रकाश और उसकी पत्नी मासूम को गोद लेकर अपने साथ ले आए थे। दोनों ने बच्ची के पिता से अच्छी देखभाल का वादा किया था।

बालों को खींचकर उखाड़ दिया, बचाव के लिए चिल्लाती थी मासूम….

रहवासियों ने बताया कि पति बेरोजगार है और शराब पीता है। दंपती की कोई संतान नहीं है। रहवासी अरुणा शर्मा ने बताया कि वे उसे भोजन नहीं देते थे और घर का सारा काम कराते थे। जरा-जरा सी बात पर लक्ष्मी उसे बेरहमी से पीटती थी। कई बार तो उसके बाल खींचकर उखाड़ दिए। उसे कई बार गर्म चीज भी दागा। वह बचाव के लिए चीखती थी। एक अन्य रहवासी रीना शर्मा ने बताया कि वह शनिवार रात मंदिर में आई तो सहमी थी। बाहर ठेले पर सब्जी लेने आई तो उसके शरीर पर चोट के काफी निशान थे। पूछने पर बताया कि उसकी मामी ने उसे जमकर पीटा था।

कमजोर धाराएं लगाने के विरोध में रहवासी पहुंचे थाने….
पुलिस ने आरोपी लक्ष्मी के खिलाफ सामान्य मारपीट की धाराओं में केस दर्ज कर उसे हिरासत में लिया है। मामले में जब रहवासियों को सूचना मिली तो वे थाने पहुंचे। उनका गुस्सा इस बात को लेकर है कि पुलिस ने सामान्य धाराओं में केस दर्ज किया जबकि हम प्रत्यक्षदर्शी हैं कि यह सामान्य मारपीट का मामला नहीं है। जांचकर्ता एएसआई धीरज शर्मा ने बताया कि बालिका की अभी विस्तृत मेडिकल रिपोर्ट नहीं आई है। रिपोर्ट के आधार पर और भी धाराएं बढ़ाई जाएंगी

 

Add a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!